Skip to main content

Do you believe in Angels?

                                                             एक गुमनाम परी

कुछ सालों पहले रामलीला मैदान से खरीदा था मुकुट, धनुष, परी की छड़ी..परी बनकर भी गुमनाम हूं मैं...मेरी डायरी एक बिखरा पन्ना आपकी नज़र कर रही हूं...

ये जो Facebook ID है न?
ये कोई पहचान नहीं मेरी,
बस एक मकां है, फ़क़त,
गुमनामियों का एक मकाँ...
जिसकी खिड़की पे बैठ कर
मैं, लिखती रहती हूँ तुम्हारे नाम कई कई खत ...
और छोड़ देती हूँ ...इस अजनबी मोहल्ले में ...
कि कभी आओ अगर इस गली,
तो पढ़ना इन खतों को...
मेरी आँखों की तरह,
इनमें भी अपना ही अक्स पाओगे...

मेरे पास,
तुम्हारा पता तो नहीं... मगर....
अपने निशां ज़रूर बचा रखे हैं...
मैंने तुम्हारे लिए...


Popular posts from this blog

Never give up on your dreams

Superheroes are fictitious..Extraordinary people are passe..only ordinary people with extraordinary dreams are real..No one is more attractive than a man or woman who is trying to prove his or her mettle..When you struggle to achieve something that seems impossible at that point of time, you become a powerhouse..which ignite fire in every heart..It's quite astonishing to see that in your quest for self realization you connect with so many like minded people who are willing to help directly or indirectly..Sequentially you also start reaching out..So never ever give up on your dreams..Together we can surely brighten up our lives..Happy and compassionate 2018 to everyone..

Own your Life

It's your making..Love it exhaustively..Good or bad, whatever comes by..is yours..Own it..'What we experience' makes us 'who we are'..The uniqueness of our experiences push us to explore various dimensions of life distinctively..Regardless of how differently one perceives, responds and acts in the exact same situation..no one is inferior or superior..We are equals..Navigating at our own pace..So enjoy being exceptional in diversity..

खुद को कितना सताओगे?

अपने आप को चाहें धीरे-धीरे मारो या एक बार में..हमारे अंदर ये जो नन्ही सी जान है..बेचारी, उफ तक नहीं करेगी..यही वजह है कि हम जब चाहें तब अपने आपको दुखी करते रहते हैं..और वो भी चुपचाप सब कुछ सहती रहती है..अगर हमें, खुद से थोड़ा सा भी विरोध करना आता..तो हम ये कभी नहीं कर पाते..हैरत की बात है कि इसकी कोई सजा भी नहीं है..लेकिन सच्चाई तो ये है कि अगर दूसरों को सताना जुर्म है..तो खुद को सताना उससे भी बड़ा जुर्म है..इसलिए खुद के साथ नर्मी से पेश आया करो..और दूसरों को खुश रखने के साथ-साथ अपने आपको भी खुश रखना सीखो.. +anshupriya prasad