Skip to main content

एक पत्नी का प्रेम पत्र

एक खूबसूरत प्रेम कहानी आपके साथ शेयर कर रही हूं... 21 सितंबर, 2015 में ये लव लेटर लीना ने अपने पति अनुज के लिए लिखा...ये पेंटिंग भी लीना ने खुद बनाई है...

We met in 2005 and for the first time I saw a man saying "JAI HIND" and it was little awkward for me and gradually I kept observing you as
a man who never uses foul language and is a tea teetotaler....

Then we got married and I started witnessing

A man respecting woman and loving poor & deprived ...
A man fighting for weakers right without any fear ...
A man who will never compromise no matter how big the benefit is ...
A man who will never harm anyone even if someone is trying to do the same ...
A man who lost nearly everything but still standing tall to contribute for his nation and society ...
A man who was known for his fitness and even after losing his fitness due to injuries he still guides and motivates people to be fit in life ...
A man who can make a dead man alive and active with his motivational skills ...
A man who will live and die for his ideals n values ...
A man truly having constructive n democratic approach in life ...
These characteristics were alien for me and are still alien for people around me but I know and believe that you are here for a purpose , not for material gains and you know that I am there with you in every possible stage of life n those dreams are mine too.....thanx for showing me my real self and getting me out of my shell and constantly asking me to learn life n grow.
Happy B'day ... JAIHIND !!!!!
— feeling i hope my brush did well !!!

Popular posts from this blog

खुद को कितना सताओगे?

अपने आप को चाहें धीरे-धीरे मारो या एक बार में..हमारे अंदर ये जो नन्ही सी जान है..बेचारी, उफ तक नहीं करेगी..यही वजह है कि हम जब चाहें तब अपने आपको दुखी करते रहते हैं..और वो भी चुपचाप सब कुछ सहती रहती है..अगर हमें, खुद से थोड़ा सा भी विरोध करना आता..तो हम ये कभी नहीं कर पाते..हैरत की बात है कि इसकी कोई सजा भी नहीं है..लेकिन सच्चाई तो ये है कि अगर दूसरों को सताना जुर्म है..तो खुद को सताना उससे भी बड़ा जुर्म है..इसलिए खुद के साथ नर्मी से पेश आया करो..और दूसरों को खुश रखने के साथ-साथ अपने आपको भी खुश रखना सीखो.. +anshupriya prasad

Make the Best of it..

अपनी किस्मत से प्यार करना सीखो..फिर चाहें वो अच्छी हो या बुरी..क्योंकि अगर हम अपनी किस्मत को लगातार कोसते रहेंगे..तो वो बद् से बद्तर होती चली जाएगी..लेकिन अगर हम अपनी तकदीर से बिना शर्त बेपनाह मोहब्बत (unconditional Love) करेंगे..तो वो हमसे ज्यादा देर तक रूठी नहीं रह सकती..एक ना एक दिन तो उसे भी पलट कर प्यार करना ही पड़ेगा..इसलिए सबसे पहले जो मिला है और जो हो रहा है..उसे तहे दिल से स्वीकारो..और फिर उसे बेहतर कैसे बनाना है..इस बारे में सोचो..वैसे भी जब तक हम अपने मौजूदा हालात और चीज़ों के लिए शुक्रगुज़ार नहीं होंगे..तब तक बेहतर कल का रास्ता नहीं खुलेगा.. +anshupriya prasad

अगर कोई चिढ़े, ताने मारे या मुंह फेर ले..

अगर कोई हमें पसंद नहीं करता..तो इसका मतलब ये नहीं है कि हमारे अंदर कोई कमी है..और हमें नापसंद करने वाला शख्स कोई बहुत बड़ी तोप है..क्योंकि बहुत सारे लोग तो अपने आप को ही पसंद नहीं करते..वो दूसरों को क्या खाक पसंद करेंगे..इसलिए अगर कोई चिढ़े, ताने मारे या मुंह फेर ले..तो परेशान मत होना..क्योंकि ये उसकी समस्या है, हमारी नहीं..हमें तो खुद ईश्वर ने अपने दिल में जगह दी है..तो फिर बंदों की राय से क्या फर्क पड़ता है.. +anshupriya prasad