Skip to main content

'Hero is little more braver than an ordinary man'


जब लोग जीना मुश्किल कर देते हैं..हसरतें अधूरी रह जाती हैं और सपने टूटने लगते हैं..तब जाकर एक हीरो का जन्म होता है..अगर हमारी सारी इच्छाएं सोचते ही पूरी हो जाएं तो यकीन मानिए इस धरती पर कभी कोई वीर पैदा नहीं होगा..क्योंकि ये बुरा वक्त ही है जो हमारे अंदर के हीरो को जगाता है.. वक्त की मार से जब लोग टूटने लगते हैं और परिस्थितियों के गुलाम बन जाते हैं..हीरो उस वक्त भी डटा रहता है..क्योंकि सहनशक्ति और इरादे ही एक आम इंसान को हीरो बनाते हैं..इसलिए अपनी निराशा, हताशा, गम, परेशानियों से भागो मत.. उन्हें अपनी ताकत बनाओ..बुरे वक्त, बुरे लोगों से सीख लो.. और एक हीरो की तरह अपने सपनों को हकीकत से मिलाने की जंग लड़ते रहो.. Anshupriya Prasad

Comments

  1. Bahut khoob likha Hei.. Aur iss Jung mein peeche hatna mat.. Kyonki Jo peeche hata to hero kamzor hone lagega.. Iss hero ko tarotaaza rakhna..zindagi ke raaste khulte chale jaayenge

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

दर्द भरा नूर..

मोहब्बत करने वाले रोज़ थोड़ा-थोड़ा मरा करते हैं..क्योंकि किसी और को अपना हिस्सा बनाने के लिए खुद को मिटाना पड़ता है..तभी दूसरे के लिए जगह बनती है..अपना वजूद जितना मिटेगा, उतना ही प्यार बढ़ता चला जाएगा..ज़रूरी नहीं है कि जितनी प्रीत आप कर सकते हो, उतनी वापस भी मिल जाए..क्योंकि प्रेम तो केवल वही निभा सकते हैं जिन्हें दर्द के नूर में तप-तप कर संवरना आता है..प्रेमी अगर मिल जाएं तो 'राधा-कृष्ण'..और ना मिल पाएं तो 'मीरा-कृष्ण'..

खुशियों की तैयारी..

अपने आप से बात करते समय, बेहद सावधानी बरतें..क्योंकि हमारा आगे आने वाला वक्त काफी हद तक, इस बात पर निर्भर करता है कि हम क्या सोचते हैं..या फिर खुद से कैसी बातें करते हैं..हमारे साथ कोई भी बात, होती तो एक बार है, लेकिन हम लगातार उसी के बारे में सोचते रहते हैं..और मन ही मन, उन्ही पलों को, हर समय जीते रहते हैं जिनसे हमें चोट पहुंचती है..बार-बार ऐसी बातों को याद करने से, हमारा दिल इतना छलनी हो जाता है कि सारा आत्मविश्वास, रिस-रिस कर बह जाता है..फिर हमें कोई भी काम करने में डर लगता है..भरोसा ही नहीं होता कि हम कुछ, कर भी पाएंगे या नहीं..तरह-तरह की आशंकाएं सताने लगती हैं..इन सबका नतीजा ये होता है कि अगर कोई अनहोनी, नहीं भी होने वाली होती है, तो वो होने लगती है..गलत बातें सोच-सोच कर, हम अपने ही दुर्भाग्य पर मोहर लगा देते हैं..इसलिए वही सोचो, जो आप भविष्य में होते हुए देखना चाहते हो..वैसे भी न्यौता, सुख को दिया जाता है..दुख को नहीं..तो फिर तैयारी भी खुशियों की ही करनी चाहिए..

गिरने में शरम कैसी?

मेहनत, सफलता की गारंटी नहीं है..संघर्ष, मंज़िल पाने का टिकट नहीं है..बार-बार फेल होगे..बार-बार गिरोगे..हो सकता है कि लक्ष्य भी मिलते-मिलते रह जाए..लेकिन घबराना नहीं..कोशिश करते रहना..क्योंकि मेहनत का कोई और विकल्प नहीं है..सभी कामयाब लोग यही करते हैं..और ज़िंदगी भर करते हैं..पहले तो मंज़िल तक पहुंचने के लिए और फिर उस पर टिके रहने के लिए लगातार मशक्कत करनी पड़ती है..वैसे भी फेल, हमारी प्लानिंग होती है..हम नहीं..इसलिए गिरने से क्या डरना..बढ़े चलो, जब तक है जान..