Skip to main content

Either do it or don't crib

When self pity creeps in..we tend to bosom it..It comforts and converts us into passive beings..The more it hurts, the more we cling to it..Emerging from heartfelt emotion is not easy..It takes a lot of persistence to break the mould..Be stubborn and take over the reins..When we are not in charge, things keep on happening at their own- implying law of attraction..But when we choose to be on the right track..Things are ought to move in desired direction..So head out determinedly and produce efficacious results..

Popular posts from this blog

Never give up on your dreams

Superheroes are fictitious..Extraordinary people are passe..only ordinary people with extraordinary dreams are real..No one is more attractive than a man or woman who is trying to prove his or her mettle..When you struggle to achieve something that seems impossible at that point of time, you become a powerhouse..which ignite fire in every heart..It's quite astonishing to see that in your quest for self realization you connect with so many like minded people who are willing to help directly or indirectly..Sequentially you also start reaching out..So never ever give up on your dreams..Together we can surely brighten up our lives..Happy and compassionate 2018 to everyone..

खुद को कितना सताओगे?

अपने आप को चाहें धीरे-धीरे मारो या एक बार में..हमारे अंदर ये जो नन्ही सी जान है..बेचारी, उफ तक नहीं करेगी..यही वजह है कि हम जब चाहें तब अपने आपको दुखी करते रहते हैं..और वो भी चुपचाप सब कुछ सहती रहती है..अगर हमें, खुद से थोड़ा सा भी विरोध करना आता..तो हम ये कभी नहीं कर पाते..हैरत की बात है कि इसकी कोई सजा भी नहीं है..लेकिन सच्चाई तो ये है कि अगर दूसरों को सताना जुर्म है..तो खुद को सताना उससे भी बड़ा जुर्म है..इसलिए खुद के साथ नर्मी से पेश आया करो..और दूसरों को खुश रखने के साथ-साथ अपने आपको भी खुश रखना सीखो.. +anshupriya prasad

Make the Best of it..

अपनी किस्मत से प्यार करना सीखो..फिर चाहें वो अच्छी हो या बुरी..क्योंकि अगर हम अपनी किस्मत को लगातार कोसते रहेंगे..तो वो बद् से बद्तर होती चली जाएगी..लेकिन अगर हम अपनी तकदीर से बिना शर्त बेपनाह मोहब्बत (unconditional Love) करेंगे..तो वो हमसे ज्यादा देर तक रूठी नहीं रह सकती..एक ना एक दिन तो उसे भी पलट कर प्यार करना ही पड़ेगा..इसलिए सबसे पहले जो मिला है और जो हो रहा है..उसे तहे दिल से स्वीकारो..और फिर उसे बेहतर कैसे बनाना है..इस बारे में सोचो..वैसे भी जब तक हम अपने मौजूदा हालात और चीज़ों के लिए शुक्रगुज़ार नहीं होंगे..तब तक बेहतर कल का रास्ता नहीं खुलेगा.. +anshupriya prasad