Skip to main content

Posts

Showing posts from 2021

इस होली, तन भीगे या ना भीगे..

रोकना नहीं, अपने आप को बहने देना.. जो बात मन में अधूरी थी, उसे कह देना.. कोरोना ने हालात बदले, लेकिन जज़्बात  नहीं.. तुम मन की परतों को, धीरे-धीरे खुलने देना.. इस होली, तन भीगे या ना भीगे.. तुम दिल के हर कोने को, सतरंगी रंगों से भर लेना.. रंग ऐसा, जो चढ़े तो ना उतरे कभी बेरंग सी रूह को, सच्चे रंगों से रंग लेना.. इस होली, तन भीगे या ना भीगे.. तुम दिल के हर कोने को, सतरंगी रंगों से भर लेना..

ना जाने किस मिट्टी के बने हो?

कभी पहचाना अपने आपको? कितनी हिम्मत और हौसलों का कारवां (Carvan) साथ लेकर चलते हो? ज़िम्मेदारियां पैर खींचती हैं, थक के चूर हो जाते हो, फिर भी रुकने का नाम नहीं लेते..बैचेनी डसती है, अकेलापन खाने को दौड़ता है, तब भी दूसरों की फिक्र करना नहीं छोड़ते..बार-बार सताए जाते हो, बार-बार रुलाए जाते हो, लेकिन सिसकियों को दबाए, छलनी दिल से भी मुस्कुरा देते हो.. क्या हो? किस मिट्टी के बने हो? ना टूटना जानते हो..ना रुकना..बस चलते ही जाते हो..देखो ना, चलते-चलते कितना सफर तय कर लिया है..कितना मुश्किल था इतनी सारी कठिनाइयों को पार करते हुए यहां तक पहुंचना, लेकिन फिर भी आ गए हो.. जब यहां तक आने की ताकत रखते हो, तो आगे भी जा सकते हो..ये हिम्मत..ये हौसला..जो अब तक दिखाया है..उसे कम नहीं होने देना..इसी जज़्बे ने हमें अभी तक ज़िंदा रखा है..अब यही जज़्बा हमें आगे बढ़ाएगा..भले ही, अभी तक हम कुछ खास नहीं कर पाए हों, लेकिन अब ज़रूर कर लेंगे..क्योंकि अब हमें अपना साथ मिल गया है..हमने उस उजाले को देख लिया है जो हमारे अंदर और आसपास है..यही उजाला हमारी राहें रोशन करेगा..बस, पूरे ईमान (Faith) से कदम बढ़ाते रहना..

संकल्प से सिद्धि

हम इंतज़ार करते रहते हैं कि थोड़े से हालात सुधर जाएं, तब हम शुरुआत करें..लेकिन हालात कहते हैं कि वो तभी बदलेंगे, जब हम शुरुआत करेंगे..इसी कश्मकश में एक बेहद बेशकीमती चीज़ हमारे हाथ से फिसलती चली जाती है..वो है-समय.. अगर हम ज़िंदगी की गाड़ी को सिर्फ भाग्य के पहियों के भरोसे छोड़ देंगे..तो वो अपनी मर्ज़ी से चलेगी..कभी टेढ़ी-मेढ़ी, तो कभी रुक-रुक कर..लेकिन अगर इस गाड़ी में संकल्प (Resolve) और मेहनत के शक्तिशाली पार्ट (Part) लगा दिए जाएं..तब ये वहीं जाएगी, जहां हम इसे ले जाना चाहते हैं.. हमारा संकल्प, ज़िंदगी की गाड़ी का स्टीयरिंग (Steering wheel) बन जाएगा..जिससे इसे सही दिशा मिलेगी..और हमारी मेहनत, गाड़ी के एक्सीलेटर (Accelerator pedal) का काम करेगी..जिससे इसे रफ्तार मिलेगी.. सही दिशा और रफ्तार..यानी संकल्प और मेहनत..सिर्फ यही दो चीज़ें हैं, जो हमारे लिए छोड़ी गई हैं..और इन्ही दो चीजों का होना या ना होना, हमारी सफलता या असफलता, निर्धारित करता है.. इसलिए, जो भी करना चाहते हो, उसका संकल्प लेकर, जहां हो..जैसे हो..वहीं से शुरू करो..क्योंकि, जब तक हम पूरी लगन से आगे नहीं बढ़ेंगे..तब तक ना तो ह