Skip to main content

Posts

आधे-अधूरे क्यों जीना..

ये बैचेनी..ये कसक..उन सपनों की है जो अधूरे छूट गए, या फिर कभी देखे ही नहीं गए..जब हम बहुत कुछ कर सकते हैं, लेकिन करते नहीं, तो दिल बैचेन हो उठता है..कहीं मन नहीं लगता..समझ में नहीं आता कि क्या करें..फिर भले ही हम इधर-उधर की चीजों में, लाख टाइम पास करने की कोशिश करें..लेकिन ये दिल, ज्यादा देर तक बहलेगा नहीं..टीवी, फेसबुक, व्हाट्सएप, नशा, नींद, गॉसिप, पार्टी, किसी से भी खालीपन नहीं भरेगा..क्योंकि हमारे अंदर कुछ है, जो लगातार संपूर्ण होना (Perfection) चाहता है..यानी कि हर काम पहले से बेहतर करना चाहता है..जिसे अपनी सीमाओं से परे, एक नई पहचान की तलाश है..और जो खिल कर, महकना चाहता है..लेकिन हम उसे, उसके हिस्से की धूप नहीं देते..उसे मन के अंधेरों में बंद करके भूल गए हैं..इसलिए इतनी पीड़ा, इतनी बैचेनी होती है..अगर इससे निकलना है तो अपने गोल (Goal) सेट करो..रोज़मर्रा के काम से हटकर, अपना लक्ष्य बनाओ..कुछ नया सीखो..किसी मुश्किल काम को साधो..फिर देखो, कितना मज़ा आता है..सारी खलिश, सारी बैचेनी एकदम खत्म हो जाएगी..एक ऐसी पाकीज़ा खुशी मिलेगी..जिसे कोई, आपसे छीन नहीं पाएगा..तो फिर, आधे-अधूरे क्यों …
Recent posts

गिरने में शरम कैसी?

मेहनत, सफलता की गारंटी नहीं है..संघर्ष, मंज़िल पाने का टिकट नहीं है..बार-बार फेल होगे..बार-बार गिरोगे..हो सकता है कि लक्ष्य भी मिलते-मिलते रह जाए..लेकिन घबराना नहीं..कोशिश करते रहना..क्योंकि मेहनत का कोई और विकल्प नहीं है..सभी कामयाब लोग यही करते हैं..और ज़िंदगी भर करते हैं..पहले तो मंज़िल तक पहुंचने के लिए और फिर उस पर टिके रहने के लिए लगातार मशक्कत करनी पड़ती है..वैसे भी फेल, हमारी प्लानिंग होती है..हम नहीं..इसलिए गिरने से क्या डरना..बढ़े चलो, जब तक है जान..

दर्द भरा नूर..

मोहब्बत करने वाले रोज़ थोड़ा-थोड़ा मरा करते हैं..क्योंकि किसी और को अपना हिस्सा बनाने के लिए खुद को मिटाना पड़ता है..तभी दूसरे के लिए जगह बनती है..अपना वजूद जितना मिटेगा, उतना ही प्यार बढ़ता चला जाएगा..ज़रूरी नहीं है कि जितनी प्रीत आप कर सकते हो, उतनी वापस भी मिल जाए..क्योंकि प्रेम तो केवल वही निभा सकते हैं जिन्हें दर्द के नूर में तप-तप कर संवरना आता है..प्रेमी अगर मिल जाएं तो 'राधा-कृष्ण'..और ना मिल पाएं तो 'मीरा-कृष्ण'..

खुशियों की तैयारी..

अपने आप से बात करते समय, बेहद सावधानी बरतें..क्योंकि हमारा आगे आने वाला वक्त काफी हद तक, इस बात पर निर्भर करता है कि हम क्या सोचते हैं..या फिर खुद से कैसी बातें करते हैं..हमारे साथ कोई भी बात, होती तो एक बार है, लेकिन हम लगातार उसी के बारे में सोचते रहते हैं..और मन ही मन, उन्ही पलों को, हर समय जीते रहते हैं जिनसे हमें चोट पहुंचती है..बार-बार ऐसी बातों को याद करने से, हमारा दिल इतना छलनी हो जाता है कि सारा आत्मविश्वास, रिस-रिस कर बह जाता है..फिर हमें कोई भी काम करने में डर लगता है..भरोसा ही नहीं होता कि हम कुछ, कर भी पाएंगे या नहीं..तरह-तरह की आशंकाएं सताने लगती हैं..इन सबका नतीजा ये होता है कि अगर कोई अनहोनी, नहीं भी होने वाली होती है, तो वो होने लगती है..गलत बातें सोच-सोच कर, हम अपने ही दुर्भाग्य पर मोहर लगा देते हैं..इसलिए वही सोचो, जो आप भविष्य में होते हुए देखना चाहते हो..वैसे भी न्यौता, सुख को दिया जाता है..दुख को नहीं..तो फिर तैयारी भी खुशियों की ही करनी चाहिए..

एक बार जो कमिटमेंट कर दी..

हम सपने देखने से डरते हैं..उनके बारे में बात करने में संकोच करते हैं..घबराते हैं कि अगर किसी को पता चल गया तो हमारा मज़ाक उड़ेगा..लोग कहेंगे कि आता-जाता तो कुछ नहीं है लेकिन ख्वाब तो राजा-रानियों वाले हैं..सच तो ये है कि हम दूसरों से नहीं बल्कि अपने आप से शरमाते हैं..खुद से कमिटमेंट करने में डरते हैं..अब लोगों का क्या है..उन्हे तो कुछ ना कुछ कहना ही है..सपने देखोगे, तब भी बोलेंगे और नहीं देखोगे, तब भी ताने मारेंगे कि ये तो किसी लायक नहीं है..इसलिए सपने ज़रूर देखो..अपनी ताकत से ज्यादा और खूब सारे देखो..फिर अपने आपको उनमें झोंक दो..सलमान ख़ान का ये डायलॉग तो सुना ही होगा कि-"एक बार जो मैंने कमिटमेंट कर दी..उसके बाद तो मैं खुद की भी नहीं सुनता"..ऐसी ही कमिटमेंट खुद से करो..अपनी तरक्की के लिए..उन्नति के लिए..अपने और अपनों के सपने साकार करने के लिए..और फिर जब तक मंज़िल पर नहीं पहुंचो तब तक खुद की भी नहीं सुनो..

Hacking Success

Success is a false notion..Nobody can tell, how successful you are..There is no measure..no parameter..There maybe some set social norms, but is there anything universal, which can be labelled as 'true success'?..Generally we don't hanker after same things..Everyone's aspiration is different..You choose where to be..Every time when we achieve something, we desire for more..Hence, the idea of success keeps slipping away throughout the journey..One maybe having the best of jobs, partners or wealth, but that doesn't necessarily make anyone the most successful person..because in spite of possessing best of things, one may not be joyful and satisfied.. Success comes from within..It depends on how you live day by day..Are you grateful and happy to be alive or are you complaining all the time?..Do you see yourself learning and growing every day or are you slam dancing to fate's tune?..Only you know how successful you are..Always keep that judgement to yourself and ne…

A little more than usual

Living an extraordinary life, doesn't always mean earning a lot of money or being unmistakably famous..It means, whatever you do, do a little extra..a little more love..a little more resilience..a little more perfection..Every year..every day..we progress bit by bit..When someone empowers dreams by efforts, everything automatically falls into the right place..Maybe success is not necessarily bestowed on us by birth..but in our pursuit of perfection, we categorically make everything excellent and worthy..