Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2017

खुद को कितना सताओगे?

अपने आप को चाहें धीरे-धीरे मारो या एक बार में..हमारे अंदर ये जो नन्ही सी जान है..बेचारी, उफ तक नहीं करेगी..यही वजह है कि हम जब चाहें तब अपने आपको दुखी करते रहते हैं..और वो भी चुपचाप सब कुछ सहती रहती है..अगर हमें, खुद से थोड़ा सा भी विरोध करना आता..तो हम ये कभी नहीं कर पाते..हैरत की बात है कि इसकी कोई सजा भी नहीं है..लेकिन सच्चाई तो ये है कि अगर दूसरों को सताना जुर्म है..तो खुद को सताना उससे भी बड़ा जुर्म है..इसलिए खुद के साथ नर्मी से पेश आया करो..और दूसरों को खुश रखने के साथ-साथ अपने आपको भी खुश रखना सीखो.. +anshupriya prasad

असली मज़ा तो सफ़र में है..

किसी को प्यार की तलाश है..किसी को मौके की..तो किसी को धन-दौलत की..सबकी चाहत अलग-अलग है क्योंकि जिसे जो चीज़ नहीं मिलती..बस, वही सबसे प्यारी बन जाती है..सारी ज़िंदगी हम उसी चीज़ की तलब में काट देते हैं..और दूसरी चीजें जो हमारे पास हैं उनकी कदर तक नहीं करते..ख्वाहिशें अच्छी हैं..लक्ष्य भी ज़रूरी हैं..और मंजिलें भी..लेकिन असली मज़ा तो सफ़र में है..कहीं ऐसा ना हो कि मंज़िल की तलाश में अपने ही खो जाएं..और कल की उम्मीद में हम आज, जीना छोड़ दें..इसलिए सफर को हसीन बनाना ज़रूरी है..मंज़िल का क्या है..जब ठान लिया है तो एक ना एक दिन मिल ही जाएगी.. +anshupriya prasad

अगर कोई चिढ़े, ताने मारे या मुंह फेर ले..

अगर कोई हमें पसंद नहीं करता..तो इसका मतलब ये नहीं है कि हमारे अंदर कोई कमी है..और हमें नापसंद करने वाला शख्स कोई बहुत बड़ी तोप है..क्योंकि बहुत सारे लोग तो अपने आप को ही पसंद नहीं करते..वो दूसरों को क्या खाक पसंद करेंगे..इसलिए अगर कोई चिढ़े, ताने मारे या मुंह फेर ले..तो परेशान मत होना..क्योंकि ये उसकी समस्या है, हमारी नहीं..हमें तो खुद ईश्वर ने अपने दिल में जगह दी है..तो फिर बंदों की राय से क्या फर्क पड़ता है.. +anshupriya prasad

देवी-देवता नहीं महानायक..

तैतींस करोड़ देवी-देवता सिर्फ इसलिए नहीं बताए गए कि हाथ जोड़ लिए और हो गई छुट्टी..इनमें से हरेक की ज़िंदगी से कुछ ना कुछ सीखने योग्य है..इन सभी ने विपरीत परिस्थितियों (adversities) में अदम्य साहस, बेजोड़ लगन और असाधारण काबलियत का परिचय दिया है..तभी तो सदियों बाद भी हम उन्हें याद करते हैं..असली मायनों में ये देवी-देवता नहीं अपने-अपने समय के महानायक हैं..क्या स्त्री और क्या पुरुष..सबने बुरे से बुरे हालात में अपनी योग्यता साबित की है..ये मिसाल हैं इस बात की कि हर इंसान इन्ही की ही तरह काबिल है..और हम सभी में महानायक बनने की क्षमता है..क्योंकि इस दुनिया में ऐसा कोई काम नहीं है जिसे हम कर नहीं सकते..बस हमें अपने आपको इस बात का यकीन दिलाने की ज़रूरत है.. +anshupriya prasad

अपने अंदर के हीरो को पहचानो..

सिर्फ एक दिन के लिए अपनी परेशानियां किसी और को देकर देखो..ज़िम्मेदारियों के बोझ से उसका दम ना निकल जाए तो कहना..क्योंकि हर इंसान को उतनी ही मुश्किलें मिलती हैं जितनी उसकी सहने की क्षमता होती है..कोई दूसरा ना तो हमारी तकलीफों का अंदाज़ा लगा सकता है और ना ही झेल सकता है..लेकिन हम हैं कि इसी दुख-दर्द के बीच ना सिर्फ आगे बढ़ते रहते हैं बल्कि मुस्कुरा भी लेते हैं..प्यार भरी दो बातें भी कर लेते हैं और ज़रूरत पड़ने पर दूसरों की मदद भी कर देते हैं..ऐसा एक हीरो के अलावा और कौन सकता है..इसलिए मायूस होने से पहले अपने अंदर के हीरो को पहचानो..जो ना तो रुकना जानता है और ना ही टूटना.. +anshupriya prasad