Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2017

दिमाग का किस्मत कनेक्शन

दिमाग का भी किस्मत कनेक्शन होता है..क्योंकि बचपन से ही हमारे दिमाग में कई बातें अपने आप दर्ज (feed) होती रहती हैं..जैसे किस्मत का अच्छा या बुरा होना, भाग्य से ज्यादा किसी को नहीं मिलना..हम इन बातों पर इसलिए विश्वास करने लगते हैं क्योंकि हमारे आसपास रहने वाले ज्यादातर लोग ऐसी ही बातों पर यकीन रखते हैं..ये बातें जाने-अनजाने हमारे दिमाग में इतनी गहरी बैठ जाती हैं कि जरा सी अड़चन आते ही हमें लगता है कि हमारा तो समय ठीक नहीं है इसलिए कोई काम नहीं बन रहा..और अगर थोड़ी-बहुत मेहनत कर ली और फिर भी सफलता हाथ नहीं लगी तो डंके की चोट पर ये मान लिया जाता है कि हमारी तो किस्मत ही खराब है, हमें तो कोई भी चीज कभी मिल ही नहीं सकती..अब जब मन की गहराइयों में इतनी नकारात्मक (negative) बातें भरी रहेंगी तो हौसला कहां से आएगा..कोई भी काम करते-करते अगर खुद का मन ही निराशा से भर उठे तो यकीन मानिए वो काम कभी पूरा नहीं होगा..इसलिए हथियार डालने का कोई फायदा नहीं..संघर्ष तो वैसे भी करना ही पड़ रहा है..तो क्यों ना हम इसे अपनी खुशी से चुनें..कम से कम सफल होने की उम्मीद तो होगी.. +anshupriya prasad

दर्द, कितना भी प्यारा हो..

दर्द की भी अपनी एक उम्र होती है..फिर चाहें हम उसे कितना भी जकड़ें..एक दिन दर्द हमें छोड़कर चला ही जाता है..क्योंकि हमारे अंदर जो जीने की चाह है वो किसी भी तरह के दुख-दर्द से छुटकारा पाने की लगातार जद्दोजहद करती रहती है..हमें भले ही इसका अहसास ना हो..लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है..ये जंग और भी घमासान होती जाती है..यही वजह है कि चोट, कितनी भी गहरी हो..दर्द, कितना भी प्यारा हो..एक दिन उसे टाटा-बाय-बाय कहना ही पड़ता है..इसलिए दर्द से कैसी यारियां.. +anshupriya prasad

Make your Life now..

किसी भी शख्स को देखकर ये अंदाजा़ लगाया जा सकता है कि 10 साल पहले वो कैसा था..अगर वो खुश है..तो इसका मतलब है कि पिछले कुछ समय से वो अपनी खुशियों के लिए कोशिश कर रहा है..अगर वो दुखी है तो इसके मायने हैं कि वो बिना सोचे-समझे बस जिए जा रहा है..क्योंकि हम आज जो भी करते हैं उसका असर अगले 5 से 10 सालों में दिखाई देने लगता है..इसलिए अभी से अपना लक्ष्य बनाएं कि अगले 10 साल बाद आप कैसी ज़िंदगी चाहते हैं..जो सोचा है उस पर डटे रहें.. मुश्किलें आने पर भी निराश ना हों..कुछ ही समय में इसका असर दिखाई देगा और हर रास्ता, मंज़िल की तरफ खुलने लगेगा.. +anshupriya prasad

Meditation is not for lovers

People in Love, don't need to meditate..because Love itself is a meditation..Fulfilled or Unfulfilled..anything would work..If you can keep Love alive in everything you do.. +anshupriya prasad